Uncategorised

रेल यात्री, शिकायत करें आसानीसे।

यात्रिओंकी सुविधा के लिए अब सिर्फ 1 हेल्पलाइन नंबर 139 और रेल मदत ऐप।

आज नववर्ष के पहले दिनसे, रेल प्रशासन ने अपने अलग अलग हेल्पलाइन नंबर बंद कर के उसकी जगह 139 और रेल मदत इस ॲप के जरिए यात्री की विविध सहायता और शिकायतोंका निवारण किया जाएगा।

इसके पहले रेल्वे द्वारा शुरू किये गए 139, केटरिंग सर्विसेस (1800111 321), जनरल शिकायत नंबर 138, सावधानता (152210)(सतर्कता) सुविधा, दुर्घटना संरक्षण( 1072), क्लीन माय कोच सुविधा (58888 / 138), लघु संदेश ( 97176 30982) (एसएमएस) के जरिए की जाने वाली विविध शिकायत और कंप्लेट मॅनेजमेंट सिस्टम सहायता पोर्टल हे सब टोल फ्री नंबर और पोर्टल 1 जानेवारी 2020 से बंद किये जाएंगे।

139 यह सहायता केंद्र नंबर शुरू रखा जायेगा, रेल्वे द्वारा यात्रिओंकी सेवा में नया पोर्टल रेल मदत जारी किया जा रहा है। इस सहाय्यता पोर्टल का यात्री अपनी हर शिकायत या समस्या का समाधान पाने जे लिए कर पाएंगे।

वैसे तो रेल प्रशासन ने दिनांक 15 जुलै 2019 से ही सेंटर फोर रेल्वे इन्फॉर्मेशन सिस्टीम (CRIS) इसे लॉन्च कर दिया है। शिकायतोंका वर्गीकरण कर रेल्वे ने हर तरह की शिकायत के लिए अलग नम्बर या अलग कोड तैयार किए थे। ये लगभग तीस से भी ज्यादा सहायता नंबर (हेल्पलाइन नंबर) यात्रिओंके सामने रख दिए गए थे। लेकिन इससे यात्री अपनी शिकायत करना भूल नम्बर डायल करने में ही उलझ जाता और कही कोई गलती हो गयी तो फोन डिस्कनेक्ट हो जाता। यह ठीक उस तरह की हालत हो जाती, क्यों हमने शिकायत करने की सोची? आखिरकार रेलवे ने सीधे 139 यह नंबर और एक यूनिक पोर्टल यात्रिओंकी सेवा में जारी किया।

यह व्यवस्था तो अब बन्द हो गयी है, लेकिन आपकी जानकारी के लिए बताते है की एक आम यात्री को शिकायत करना हो तो कितनी गम्भीर समस्या उसको सहन करनी पड़ती थी।

हेल्पलाइन नंबर –
रेल्वे गाडीमध्ये पानी, बिजली, और वातानुकुलित यंत्रणा सुविधा हेतु शिकायत के लिये, औऱ गाडी का स्टेट्स, सीट्स की स्थिति के लिए 139 नम्बर।

गाडीमें सुरक्षा संबंधित सहायता के लिए 182, छोटे बच्चोंके सहायता हेतु 1098, रेल्वे अपघात होने की अवस्था मे 1072, चलती हुई गाड़ी में साफसफाई के लिये 58888, सतर्कता सहायता के लिए 155210 सामान्य शिकायत दर्ज कराने के लिये नंबर 138

कुछ नम्बर्स फिलहाल शुरू है, इसीमे 139, केटरिंग सर्विसेस (1800111 321), सावधानता (152210)(सतर्कता) सुविधा, दुर्घटना संरक्षण( 1072), क्लीन माय कोच सुविधा ( 58888), लघु संदेश ( 9717630982)(एसएमएस) कंप्लेट मॅनेजमेंट सिस्टम सहायता पोर्टल यह सब टोल फ्री नंबर और पोर्टल एक जानेवारीपासून एक एक करके बंद किए जा रहे है।

सभी दुःखोंकी एक दवा – रेल मदत ॲप –

यह वाकई में यात्रिओंकी सभी दुविधाओं का समाधान करने वाला ऐप साबित होगा। यात्री की किसी भी शिकायत को इस ऐप के जरिए दर्ज करने के उपरांत, तुरन्त सम्बंधित विभाग को वह शिकायत वर्ग की जाएगी और यात्री का समस्या के निराकरण का कार्य शुरू हो जाएगा। यात्री को अपनी शिकायत के लिए अलग अलग दरवाजा खटखटाने की जरूरत ही नही पड़ेगी। इसके साथही सुरक्षा हेतु 182 नम्बर फ़िलहाल शुरू रखा जा रहा है।

आज नया साल शुरू हो रहा है, थोड़ा हास्य व्यंग्य कर लिया जाय –

😂😂😂😂😂😂😂😂

आपको तो पता है, पूछताछ वाली खिड़की पर किस कदर भीड़ रहती है और कैसे कैसे वाकए घटित हो जाते है।

रेलवे स्टेशन की भीड़ भरी पूछताछ वाली खिड़की पर जैसे तैसे एक महिला पहुँची।

पहले से ही परेशान क्लर्क : ” मैडम, कोहरे के कारण सभी ट्रेनें लेट हैं, इसके अलावा कुछ और पूछना चाहती है आप? ”

महिला : ” चलिए, यही बता दें, क्या इस ड्रेस में मैं मोटी तो नहीं लग रही हूँ ? ”

😃😃😃
🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣.

——————————————————

Book your tickets using Amazon pay and get upto Rs. 100 Cashback.

https://amzn.to/390qydm

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s