Uncategorised

लापरवाही, घनघोर अनदेखी और दर्दनाक दुर्घटना…

दो दिन पहले की बात है, द प रेल के बंगलुरु मण्डल के त्याकल स्टेशन की यह दर्दनाक घटना है। यह त्याकल स्टेशन बेंगालुरु – जोलारपेट्टै स्टेशन के बीच बेंगालुरु से महज 55 किलोमीटर और बांगारपेट स्टेशन से 15 किलोमीटर पहले पड़ता है। घटना 9 मार्च, सुबह 8:38 की है। त्याकल स्टेशन के दोनोंही प्लेटफ़ॉर्म पर नियमित अप डाउन करने वाले यात्रीओंकी दो अनारक्षित गाडियाँ खड़ी थी और पता नहीं कब तक खड़ी रहनेवाली थी। वजह थी रेल्वे की OHE ओवर हेड इलेक्ट्रिक सप्लाई का फेल होना। रोजाना जाने आने वाले यात्री ऐसे मामलों मे काफी जानकारी रखने वाले होते है। गाड़ी तुरंत तो चलनी नहीं थी अतः बहुतांश यात्री गाड़ी से उतरकर यूँ ही इधर-उधर घूम रहे थे, कुछ प्लेटफ़ॉर्म पर तो कुछ प्लेटफ़ॉर्म की विरुद्ध दिशामे गाड़ीसे उतरकर बगल की मैन लाइन की पटरी पर। आनेवाले भयावह संकट से बेखबर, अपने ही रोजगार पर पहुँचने की उधेड़बुन, देरीसे पहुँचने पर पड़नेवाली मालिक की डाँट के बारे मे सोचते कर्मचारी, आज की कौनसी जरूरी क्लास डुबनेवाली है इस टेंशन मे फंसे विद्यार्थी, गाड़ी देर से पहुचेंगी तो रेहड़ियाँ, ठेले लगाने मे होनेवाली देरी और उससे होनेवाले नुकसान से चिन्तित छोटे व्यवसायी।

अचानक दोनों गाड़ियोंके बीच खड़े यात्री जोर जोर से चिल्लाने लगे, एकदम से भागदौड़ और अफरातफरी मच गई, चेन्नई मैसूर शताब्दी एक्स्प्रेस मैन लाइन से बड़े ही जोरदार गति से त्याकल स्टेशन मे घुस रही थी। इस सुपरफास्ट शताब्दी गाड़ी का त्याकल स्टेशन पर स्टोपेज न होने की वजह से हमेशा की ही तरह तकरीबन 100-110 की गति से पार होने के लिए, अपनी सीटी जोर जोर से बजाती, दौड़ती चली आ रही थी। शताब्दी के लोको पायलट को ट्रैक पर घूमते लोग नजर आए, गाड़ी का हॉर्न लगातार बजता जा रहा था, लोगोंमे अफरातफरी मची थी, किसी को कुछ समझ नहीं या रहा था। सब लोग पटरी से अलग होने, दूर हटने का प्रयत्न कर रहे थे, और..

शाहबाज अहमद शरीफ उम्र 24 वर्ष, बांगारपेट से रोजाना सुबह निकल बेंगालुरु मे अपने सॉफ्टवेयर की जॉब पर पहुँचने वाला बन्दा, अब कभी भी अपनी नौकरी पर नहीं पहुँच सकेगा क्यों की वह इस हादसे का शिकार हो चुका है। उसकी शताब्दी एक्स्प्रेस की चपेट मे आकर मृत्यु हो गई है। उसके साथ ही खबर यह भी है, और दो यात्री इस हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए है।

त्याकल स्टेशन पर प्लेटफ़ॉर्म है, FOB फुट ओवर ब्रिज भी है। चूंकि मेन लाइनका स्टेशन है, रोजाना कई गाडियाँ बिना रुके, तेज गतिसे पास भी होती है, फिर.. । फिर यह हादसा क्यों हुवा? कहा जा रहा है, ड्यूटी पर हाजिर स्टेशन मास्टर, राजा बाबू ने शताब्दी एक्स्प्रेस थ्रु पास होंगी ऐसी सूचना भी दी थी, थ्रु ट्रेन को हरी झंडी दिखाने वाले पोर्टर ने भी चिल्ला चिल्लाकर लोगों को आगाह करने का प्रयत्न किया था। गलती, लापरवाही किसकी है? बेशक, प्लेटफ़ॉर्म के बजाय पटरी पर उतर कर घूमने वाले यात्रीओं की, लापरवाही से कानों मे इयरफोन डाल कर बेखौफ, गैर जिम्मेदाराना तरीकेसे रेल्वे लाइन पर, बहती सड़क पर घुमनेवाली युवा पीढ़ी की। कुछ यात्रीओंका कहना है, शाहबाज ने इयरफोन लगा रखे थे, उसे न ही लोको के लगातार बजने वाले हॉर्न सुनाई दिए, न ही अन्य यात्रीओंकी चिल्लाहट।

रेल प्रशासन लगातार यात्रीओं से निवेदन करती है, रेल पटरी पार करने के लिए फुट ओवर ब्रिज का उपयोग करें। पटरी पर चलने का अधिकार सिर्फ और सिर्फ रेलगाड़ी का है, आम इंसान ने रेल पटरी से दूर ही रहना चाहिए। हादसे के बाद त्याकल स्टेशन के स्टेशन मास्टर और रेल कर्मचारियोंको, कुछ रेल यात्रीओंके गुस्से का शिकार होना पड़ा, स्टेशन मास्टर को मारपीट की गई, उनके कपड़े फाड़ दिए गए हालांकि इस मामले मे किसी रेलकर्मी ने यात्रीओं के खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं कराई, उल्टा इस हादसे का उन्हे गहरा दुख हुवा। यात्रीओं का पटरीपर घूमना बहुत अप्रत्याशित मामला था और तेज चलती गाड़ी को रोकना बेहद नामुमकिन। इस घटना को देखते हुए हम यात्रीओंको प्रार्थना करते है, यात्री, रेलगाड़ी में और प्लेटफ़ॉर्म पर ज्यादा सुरक्षित है। कभी भी प्लेटफ़ॉर्म के अलावा अन्य जगहों पर, रेल पटरी पर से रेलगाड़ियों मे चढ़ना या उतरना, रेल पटरियों पर घूमना बेहद खतरनाक है। ऐसा साहस कभी न करें।

उपरोक्त खबर और वीडियो एस. ललिता (@Lolita_TNIE) के सौजन्य से प्रकाशित

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s