Uncategorised

रेल प्रशासन ने अपने ZBTT कार्यक्रम के अंश जाहिर कर देना चाहिए

संक्रमण काल मे दो ढाई महीने सभी यात्री गाड़ियाँ बन्द रखने के पश्चात रेल प्रशासन ने वातानुकूलित राजधानियोंसे शुरू कर धीरे धीरे लगभग सभी गाड़ियाँ पत्रियोंपर दौड़ा दी है। एक बात समझने की है, इस सारी प्रक्रिया के दौरान रेल प्रशासन ने अपना महत्वकांक्षी कार्यक्रम, ZBTT शून्याधारित समयसारणी अपने परिचालन ने उतार दिया था।

यह शून्याधारित समयसारणी, अंग्रेजी में ZBTT जीरो बेस्ड टाइमटेबल याने टाइमटेबल में सम्मिलित सारी गाड़ियोंको एक शून्य से शुरू कर, एक एक करके व्यवस्थापन में समायोजित करना। इस दौरान गाड़ियोंकी गति कम/ज्यादा करना, परिचालिक अवधि को घटना/बढ़ाना, ठहरावों को रद्द करना,नियमित गाड़ियोंको रदद् करना, मार्ग बदलना, गन्तव्योंमें बदलाव करना यह सारी गतिविधियाँ थी।

मित्रों आपको जानकर अचरज होगा, लेकिन ZBTT का कार्यान्वयन धीमे धीमे ही सही मगर शुरू हो चुका है। आपने अपने क्षेत्र की कई मेल/एक्सप्रेस गाड़ियोंके समयोंमे व्यापक बदलाव देखा होगा, अपने क्षेत्र की सवारी गाड़ियोंको खोया होगा या उन्हें मेल/एक्सप्रेस में बदलते देख रहे होंगे, पारम्परिक सवारी डिब्बों को जाकर नई मेमू या डेमू सिटिंग गाड़ियोंको समझने का प्रयास कर रहे होंगे। कुछ नियमित मेल/एक्सप्रेस गाड़ियोंका अभी तक भी शुरू न होना या स्टोपेजेस का स्किप होना यह सब उस शून्याधारित समयसारणी की ही गतिविधि है।

अब आम यात्रिओंके मन मे यह विचार कौंध जाना स्वाभाविक है, जब यह शून्याधारित समयसारणी लागू कर रहे है, ढेर बदलाव होने जा रहे है तो इतने सीक्रेटली, गुप्त तरीकेसे क्यों? यात्रिओंको या यात्री संगठनों को जो भी पता चल रहा है वह सब कुछ मामूली लीक्स के जरिये ही पता चल रहा है। रेल प्रशासन इसे आधिकारिक तौर पर घोषित क्यो नही कर देती, क्या प्रशासन को इसके सुचारु रूप मे कार्यान्वित होने में कोई शक या सन्देह है या और भी कुछ ऐसे अस्थायी बदलाव इसके तहत आनेवाले है, जो रेल प्रशासन अभी प्रगट न करना चाहती हो? खैर!

उपरोक्त लेख से कहीं आप इस शून्याधारित समयसारणी को यात्रीओंके लिए परेशानी तो नहीं न समझ रहे हो, यदि हाँ तो ऐसा बिल्कुल ही समझिए। दरअसल शून्याधारित समयसारणी को लाने की वजह है, वर्षोंसे चली या रही एडजस्टमेंट वाली समयसारणी। आपने एक गारमेंट की एड टीवी पर देखी होगी, हम भारतीय सब एडजस्ट करते है। लेकिन रेल्वे की समयसारणी मे इस एडजस्टमेंट की परिसीमा हो गई थी। अब LHB संरचना की तेज गाडियाँ चलाई जा रही है। यूँ तो LHB कोच की क्षमता 200 kmph है लेकिन हमारे ट्रैक याने पटरियाँ और दूसरा हमारी समयसारणी दोनों ही इसकी गति बढ़ाने की इजाजत नहीं दे पा रहे थे। अब रेल प्रशासन ने ठानी की प्रत्येक चीजों मे बदलाव करना होगा। भारतीय रेल मार्गों की 110 वाली गति को बढ़ाकर लगभग 130 कर ही दिया है और कई मार्गों पर 160 के ट्रायल्स चल रहे है। सिग्नल उपकरण अद्ययावत किए जा रहे है। ऐसे मे समयसारणी को कहाँ भला पीछे छोड़ा जाता? ZBTT के सारे बदलाव इकठठे लागू करने मे काफी परेशानियाँ आती थी इसलिए धीमे धीमे यह बदलाव किए जा रहे है। अब ढेर सारे ठहरावों का रद्दीकरण ही समझिए, एकसाथ इनका रद्दीकरण कर दिया जाता तो यात्रीओंकी परेशानी एकदम से बढ़ जाती दूसरा उसके ऐवज मे जो मेमू/डेमू गाडियाँ चलाई जानी है उनके रैक भी अभी पूर्णतयः उपलब्ध नहीं है।

एक बात तय समझे, शून्याधारित समयसारणी मे यात्रीओंका जो नुकसान दिख रहा है, वह तात्कालिक स्वरूप मे ही होगा। प्रत्येक मुख्य रेल मार्ग पर जो जो बुनियादी सुविधाए बधाई जा रही है, जैसे ट्रैक के दोहरिकरण, तिहरी करण, प्लेटफॉर्म्स मे बढ़ोतरी या उनकी लम्बाइयाँ बढ़ाना, मार्गों का विद्युतीकरण, समर्पित माल गलियारों का निर्माण इत्यादि आगे चलकर यात्री गाड़ियोंकी संख्या निश्चित ही बढ़वाने मे मदत करने वाले है। हमें तो यह लगता है, रेल प्रशासन अब खुलकर शून्याधारित समयसारणी की घोषणा कर उसे लागू कर दे।

2 thoughts on “रेल प्रशासन ने अपने ZBTT कार्यक्रम के अंश जाहिर कर देना चाहिए”

  1. भाई, आपको कुछ दलाली वैगरह मिलती है क्या? ZBTT से रेलवे की निजीकरण सुगम होगी, यह यात्रियोंके हित में कैसे

    Like

    1. क्या आप जानते है ऐसे दलाली वगैरह देने वालोंको? हमें तो आजतक कोई नही मिला। ☺️

      दोस्त, यह जो भी हम लिखते है, अपने अनुभव और विचारोंसे लिखते है। निजीकरण होगा या नही यह तो आज नही बता सकते मगर यह बात निश्चित कह सकते है, यदि अब भी रेल प्रशासन ने अपना परिचालन ढांचे को कुछ लोगोंके दबाव में आकर न बदला तो टूट कर बिखर जाना पक्का है। एक तरफ गति, सुविधाओंकी मांग की जाती है, दूसरी तरफ किराये में पैसा भी बढ़ जाये तो छटपटाहट! किस तरह बदलाव आएगा? आप ही सुझाए।

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s