Uncategorised

अंधेर नगरी चौपट राजा, टका सेर भाजी टका सेर खाजा!

भारतीय रेल की हालिया स्थिति बयान करती लोकोक्ति। अब आप कहेंगे, क्या सचमुच यह स्थिति है? तो ज़नाब आप जरूर रेलवे के अप्पर क्लास के वातानुकूल श्रेणियों की ठण्डी बयार लेते हुए आरक्षित यानों में यात्रा करने करने वाले यात्री होंगे। अमूमन द्वितीय श्रेणियोंके ग़ैरवातानुकूलित वर्गोंकी परिस्थितियों को बयां करती निम्नलिखित तस्वीरों को देखिए।

क्या यह यात्री भारतीय नागरिक नही है? क्या इन्होंने अपनी रेल यात्रा की टिकट रेल प्रशासन के निर्धारित किराया मूल्य में नही खरीदी है? मित्रों, यह लोग भी जेन्युइन अर्थात वास्तविक, सच्चे रेल यात्री है। मगर ये इस तरह यात्रा करने को क्यों मजबूर है? इसकी वजह है, रेल प्रशासन का अनियंत्रित कारोबार।

अब देखिए, किसी एक गाड़ी में मात्र 2 या हद हो गयी 3 द्वितीय श्रेणी कोच रहते है। मतलब आधुनिक LHB कोच भी हो तो अधिकतम 300 यात्री क्षमता। मगर बेचें जाने वाले टिकटोंकी संख्या कई गुना ज्यादा होती है। द्वितीय श्रेणी ग़ैरवातानुकूलित कोचों में एक वर्ग स्लीपर क्लास भी है, जो केवल आरक्षित यात्रिओंके लिए बन्धन कारक है। लेकिन जब द्वितिय श्रेणी के कोच इस तरह लबालब भरे हो तो सहज है की यात्री चलते, दौड़ते, गिरते, पड़ते इन स्लीपर कोचों के दरवाजों का सहारा लेता है। और मजबूरी में दण्ड वगैरे भर भराकर अपनी रेल यात्रा निपटने का प्रयास करता है।

ग़ैरवातानुकूलित द्वितिय श्रेणी आरक्षित स्लीपर क्लास की स्थिति द्वितीय श्रेणी सामान्य वर्ग से कुछ बहुत ज्यादा अलग नही रहती, बस यह फ़र्क होता है, की आसनोंपर अग्रिम आरक्षण धारक जमे हुए रहते है और उनके आसपास, अगलबगल में 6 इंच की भी जगह खाली हो तो उसपर प्रतिक्षासूची के PRS टिकट धारक, रोजाना यात्रा करनेवाले सीजन टिकट धारक, रेलवे के यूनियन कार्डधारक कर्मचारी (?) ठूंसे हुए रहते है। बची जगह पैसेज, दरवाजे, शौचालय और उसके सामने का बरामदा वह द्वितीय श्रेणियोंके मजबूर यात्रिओंसे भरा रहता है। यह क्या कम है की इतनी व्याकुल और गम्भीर स्थितियों में भिखारी, अवैध विक्रेता, झाड़ू को अपना टिकट बनाकर रेल सफाई अभियान के स्वयं नियुक्त उमीदवार, तृतीय पंथी भी बीच बीच मे फेरी लगाते रहते है। और जिन्होंने बाकायदा फेरी लगानी है वह सुरक्षा कर्मी, चल टिकट निरीक्षक नदारद रहते है।

कहने को रेल मद्त, रेल सेवा ऐप है। शिकायत पर तुरन्त कार्रवाई का आश्वासन भी मिलता है। मगर क्या सचमुच कोई कार्रवाई होती है? क्या कभी किसी ने देखा है, की स्लीपर कोच या द्वितीय श्रेणी कोचोंको नियमानुसार खाली करवाये गए हो और कोच क्षमताओं के अनुसार ही यात्री आसनस्थ किये गए हो? शायद नही। क्योंकी हर यात्री, हर भारतीय यात्री की यह चाहत होती है, कौन सा मेरे सर पर बैठ कर जा रहा है या 2 -4 घंटे या आज दिन की ही तो बात है, थोड़ा एडजस्ट कर लिया जाय। बस शायद यही रेल प्रशासन की भी नीति हो गयी है।

रेल प्रशासन को स्लीपर क्लास के PRS प्रतिक्षासूची के छपे हुए टिकट शीघ्र अतिशीघ्रता से बन्द करने चाहिए। टिकट भले ही काउन्टर से बीके मगर उन्हें छपाने की बजाय ई-टिकट और डिजिटल पेमेंट कराकर ही जारी किया जाए ताकी चार्टिंग होने के बाद यदि कोई PNR प्रतिक्षासूची में अटक जाए तो वह ऑटोमेटिकली, स्वचलित ही रद्द हो जाये और यथावत रिफण्ड किया जाए और यह लोग जबरन यात्रा करते न पाए जाए।

दूसरा उपाय स्वचालित दरवाजोंका है और ऐसेभी सुनने में है, की रेल प्रशासन वातानुकूलित द्वितीय श्रेणियों के कोच पर भी काम कर रही है। जो न सिर्फ यात्री सुरक्षा बल्कि यात्री संख्या का नियोजन करने में भी उपयुक्त हो सकता है।

कुल मिलाकर यह समझा जा सकता है, की रेल प्रशासन अपनी ‘अंधेर नगरी’ वाली उक्तियों से बाहर निकलने का प्रयत्न कर रही है, मगर कुछ नासमझीयोंके चलते यात्री भी उसके साथ खड़े रहने को तैयार नही है। उदाहरण के तौर पर आप मुम्बई उपनगरीय गाड़ियोंके वातानुकूलिकरण का ले सकते है। वहांपर स्थानिक नेताओं को आगे कर रेलवे की सुरक्षित, आरामदायक वातानुकूलित सेवाओं को बन्द करने को बाध्य किया गया और इस तरह रेल प्रशासन के दूरगामी उपायोंको ठण्डे बस्ते में डालना पड़ा। शायद यही नीति रेल विभाग के द्वितीय श्रेणियोंके आधुनिकीकरण में भी रोड़ा डाल सकती है।

जब तक यात्री एडजस्ट करते हुए यात्रा करने के लिए तैयार है, तब तक रेल विभाग को भला क्या दरकार होनी है? चलने दीजिये, ‘टका सेर भाजी और टका सेर खाजा’ 😢

लेख में प्रस्तुत तस्वीरें इंटरनेट के माध्यम से वायरल हुई है, इसका श्रेय जिन्होंने भी खींची है उनको समर्पित है।

Uncategorised

क्या करें छोटे स्टेशनोंके यात्री, जब दिन भर में कोई यात्री गाड़ी रुकती ही नही?

संक्रमण काल से ही रेलवे का रुख कुछ अजीब सा हो चला है। कहा जाता है, की यह सब शून्याधारित समयसारणी के तहत किया जा रहा है। मगर यह कौनसा न्याय है, की रेलवे स्टेशन हो और कोई भी यात्री गाड़ी ठहरती न हो?

यूँ तो सारे देशभर की सवारी गाड़ियोंको भारतीय रेल ने मेल/एक्सप्रेस श्रेणी में बदलकर रख दिया है, जो किसी भी सूरत में मेल/एक्सप्रेस की औसत गति में नही चलती। चूँकि उन्हें रेल प्रशासन जबरन मेल/एक्सप्रेस बोलता है तो कुछ तो एक्सप्रेस जैसी लगे इसलिए मार्ग के छोटे छोटे स्टेशनोंकी बलि दे दी गयी है। चलिए, उदाहरण के लिए हम मध्य रेल के भुसावल मण्डल की रूपांतरण की गई एक्सप्रेस गाड़ियोंको देखते है।

भुसावल – खण्डवा के बीच दो सवारी रूपांतरित मेल/एक्सप्रेस गाड़ियाँ चलाई जाती है। 11115/16 भुसावल इटारसी भुसावल और 11127/28 भुसावल कटनी भुसावल। अब हुवा यह है, की भुसावल से खण्डवा के बीच सारे स्टेशनोंपर रुकनेवाली सवारी गाड़ियाँ अपने नए नामकरण के बाद दुसखेड़ा, असीरगढ़ रोड, चांदनी, माण्डवा और बगमार इन स्टेशनोंपर नही रुक रही है।

भुसावल – देवलाली/इगतपुरी के बीच भी दो सवारी रूपांतरित मेल/एक्सप्रेस चलती है। 11113/14 भुसावल देवलाली भुसावल और 11119/20 भुसावल इगतपुरी भुसावल। यह गाड़ियाँ भी अब बदले रूप के बाद, लाहाविट, ओढ़ा, उगाँव, समिट, हिसवाहल, पाँझण, पिम्परखेड़, वाघली इन स्टेशनोंपर नही रुकती।

भुसावल बडनेरा/वर्धा के बीच भी दो सवारी रूपांतरित मेल/एक्सप्रेस चल रही है। 01365/66 भुसावल बडनेरा भुसावल विशेष मेमू और 11121/22 भुसावल वर्धा भुसावल। इन गाड़ियोंमे से बडनेरा मेमू तो सिवाय टाकळी स्टेशन के सभी स्टेशनोंपर रुकती है मगर 11121/22 वर्धा एक्सप्रेस आचेगांव, युवलखेड, टाकळी, टिमटाला, मालखेड़, डिपोरे, तलनी और कवठा इन स्टेशनोंपर नही रुकती।

अब तक तो हम ब्यौरा दे रहे थे, अब समस्याओं से अवगत कराते है। मित्रों, बरसों तक इन स्टेशनोंपर रेल व्यवस्था थी जो अब अचानक बन्द कर दी गयी है। क्या रेल प्रशासन इन स्टेशनोंको बन्द करने जा रहा है? क्या इन स्टेशनोंके यात्री जो कभी भी मेल/एक्सप्रेस रुकवाने का आग्रह नही करते थे, अब दिन भर में दो, चार गाड़ियाँ शहर से सम्पर्कता बनाये रखती थी उससे भी हाथ धो बैठेंगे? क्या गांव के किसान शहर जाने हेतु सड़क मार्ग से ही जाए, स्कूल, कॉलेज पढ़ने वाले विद्यार्थियों को सड़क मार्ग ही अपनाना पड़ेगा, लम्बी रेल यात्रा के लिए भी पहले सड़क मार्ग से जा कर किसी बड़े जंक्शन से गाड़ी पकड़नी होगी?

एक बात समझकर चलिए, सवारी गाड़ियोंके किराये जो मेल/एक्सप्रेस के रूपांतरण के बाद हवा हो गए है, उसके लिए कोई गाँव के लोग शिकायत नही कर रहे है, अपितु शुरवाती दिक्कत तो ठहराव को लेकर है और मित्रों इस विषय पर सारे ग्रामीण बेहद आक्रोशित है, खुद को बड़ा ठगा सा महसूस करते है। मंझौले स्टेशनोंके यात्रिओंने तो आंदोलन कर, राजनीतिक दबाव ला ला कर अपने ठहरावोंको प्रायोगिक तौर पर ही सही लेकिन शुरू तो करवा लिए है, मगर इन छोटे स्टेशनों के गिनेचुने यात्रिओंकी कहाँ और कौन सुनवाई करें?

रेल प्रशासन आखिर चाहती क्या है?

Uncategorised

11447 जबलपुर हावड़ा शक्तिपुंज एक्सप्रेस 01 अक्टूबर से बदली समयसारणी और तेज गति से चलेगी।

निम्नलिखित परिपत्रक में पहले कॉलम में विद्यमान समयसारणी है और दूसरे कॉलम में 01 अक्टूबर से नियमित की जानेवाली समयसारणी है। यात्रीगण से निवेदन है, बदले हुए समयोपर ध्यान दे और उस प्रकार अपनी रेल यात्रा का नियोजन करें।

Uncategorised

भारतीय रेल की यात्री गाड़ियोंमे दिन ब दिन कम होते द्वितीय श्रेणियों के कोच

भारतीय रेल भारत के आम यात्रिओंके लिए एकमात्र किफायती और सुव्यवस्थित यातायात का साधन है। चाहे वह उपनगरीय यात्रा हो, कम दूरी की आकस्मिक/रोजाना यात्रा हो या लम्बी दूरी की कभी कभार करने वाली यात्रा हो रेल गाड़ियोंको कोई पर्याय नही। बीते 2-3 वर्षों पहले तक रेल यात्रा करना याने द्वितीय श्रेणी का टिकट, टिकट खिड़की से खरीदों और रेल गाड़ी में सवार होकर चल पडो बस ऐसा था। कुछेक यात्री अपनी रेल यात्रा सुनियोजित तरीकेसे करते तो वह आरक्षण करा लेते थे और कुछ उच्च श्रेणी के इच्छुक वातानुकूल में आरक्षण कर यात्रा करते थे। कुल मिलाकर यह था की भारतीय रेल बड़ी ही “पेसेन्जर फ्रेंडली” लगा करती थी।

संक्रमण का रेला क्या आया और रेल व्यवस्था का सारा ढर्रा ही बदलने लगा। साथ ही रेल विभाग के शून्याधारित समयसारणी और रेल गाड़ियोंके संरचना का मानकीकरण कार्यक्रम चल पड़ा और रेल यात्रा करना सर्वसाधारण बात नही रह गयी। संक्रमण काल मे लगभग पूरे वर्षभर रेल प्रशासन ने अपनी तमाम यात्री गाड़ियाँ आरक्षित कर दी थी। सामान्य टिकट दुर्लभ था और सामान्यतः रेल यात्रा भी। उसके बाद यज्ञपी सामान्य टिकट शुरू किए गए मगर गाड़ियोंके सामान्य कोच याने द्वितीय श्रेणी के जनरल डिब्बे दिनोंदिन कम किए जाने लगे। सवारी गाड़ियाँ मेल/एक्सप्रेस श्रेणी में बहाल की गई और आम रेल यात्री यह बदलाव देखकर भौचक रह गया।

सिर्फ इतना होता तब तक भी सहनीय होता मगर परेशानियां और भी बढ़ ही रही है। सामान्य मेल/एक्सप्रेस गाड़ियोंसे न सिर्फ द्वितीय श्रेणी बल्कि सामान्य मध्यम वर्ग यात्रिओंके स्लीपर कोच भी सम्पूर्ण गाड़ी में, घटते घटते नाममात्र 2 या 3 कोच रह गए है। एक भद्दी सी कहावत याद आती है, ‘नंगा नहायेगा क्या और निचोड़ेगा क्या?’ मात्र 2-3 स्लीपर कोच में लम्बी डेढ़ दो हजार किलोमीटर यात्रा करने वाली गाड़ियोंमे क्या तो लम्बे दूरी के यात्री टिकट बुक कराएंगे और क्या बीच स्टेशनोंको कोटा बचेगा? उसमे भी 25/30% तत्काल और प्रीमियम तत्काल के लिए आरक्षित रहती है। यानी बुकिंग खुलते ही प्रतिक्षासूची शुरू यह हालात है।

रेल विभाग सामान्यजनों के स्लीपर कोच लगभग बन्द करने के कगार पर है। वैसे भी 22 कोच की गाड़ी में 2 कोच स्लीपर अर्थात आटे में नमक बराबर मात्रा रह जाती है। वातानुकूल 3 टियर के कोच बढ़ाये जा रहे है। उसमे भी रेल प्रशासन यह सोचती है, उन्होंने वातानुकूल इकोनॉमी नामक एक अलग श्रेणी का अविष्कार किया है वह स्लीपर के यात्रिओंको अनुकूल रहेगी। मगर जब मुख्यतः वातानुकूल 3 टियर और वातानुकूल इकोनॉमी के किरायोंमे मात्र 7-8% का ही फर्क हो और सुखसुविधा (कम्फर्ट) में बहुत अंतर हो तो कौन भला इकोनॉमी कोच को प्रधानता देगा? पहले तो उन इकोनॉमी कोच में यात्रिओंको बेडरोल की भी सुविधा उपलब्ध नही कराई गई थी लेकिन रेल प्रशासन के जड़ बुद्धि में कुछ उजाला कौंधा की हाल ही में, 20 सितम्बर से 3E कोच में भी यात्रिओंको बेडरोल उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा रही है।

दूसरा महत्वपूर्ण विषय यह भी है, भारतीय रेल के यात्री सामान्यतः मध्यम श्रेणी के आम लोग बहुतायत है और जिस तरह से रेल विभाग अपना रूप बदलते जा रहा है, वही की वातानुकूल कोचेस में बढ़ोतरी, वन्देभारत श्रेणी की प्रीमियम गाड़ियाँ, कहाँतक आम यात्री का दायरा पोहोंच पाएगा? राजनेता, रेल यात्री संगठन बढ़चढ़कर वन्देभारत गाड़ियोंकी मांग करने में जुटे है, जो नही वह सोचता है, उसके प्रभाग से वन्देभारत गाड़ी चले, मगर क्या वन्देभारत जैसी प्रीमियम गाड़ी के किराये उनके इलाके के यात्रिओंको पोसाने वाले है? क्या वन्देभारत गाड़ी उनके क्षेत्र के छोटे छोटे स्टेशनोंके यात्रिओंको सेवा दे पाने वाली है? क्या वन्देभारत गाड़ी हर 25/50 किलोमीटर के ठहरावोंके साथ चलेंगी? की वन्देभारत शुरू किए जाने के बाद किराया घटाने और स्टोपेजेस बढाने के लिए अलगसे आंदोलन शुरू किए जाएंगे?

मित्रों, हम सिर्फ रेल विभाग में आने वाले बदलावों की आहट समझाने और समझने का प्रयास भर कर रहे है। एक तरफ द्वितिय श्रेणी और स्लीपर कोचों के लिए आक्रोशित यात्री नजर आते है तो दूसरी ओर वन्देभारत जैसी प्रीमियम गाड़ियोंके लिए अपनी पूरी ताकत झोंकने वाले राजनेता। बस देखते जाना है, यह चित्र किस तरह मूर्त स्वरूप साकार करेगा? शेष शुभ!

Uncategorised

यह रही मध्य रेलवे की दीपावली विशेष की सौगात! दादर से बरौनी, गोरखपुर, मुम्बई से नागपुर, मालदा, लोकमान्य तिलक टर्मिनस से गोरखपुर, समस्तीपुर के बीच चलेगी विशेष सेवाएं

1: 01025/26 दादर बरौनी दादर त्रिसाप्ताहिक विशेष

2: 01027/28 दादर गोरखपुर दादर ( सप्ताह में चार दिन )

3: 01033/34 मुम्बई नागपुर मुम्बई साप्ताहिक विशेष

4: 01031/32 मुम्बई मालदा मुम्बई साप्ताहिक विशेष वाया भुसावल, जबलपुर, प्रयागराज छिंवकी, पटना, भागलपुर

5: 02105/06 लोकमान्य तिलक टर्मिनस गोरखपुर लोकमान्य तिलक टर्मिनस साप्ताहिक सुपरफास्ट विशेष वाया भुसावल, रानी कमलापति, वीरांगना लक्ष्मीबाई झांसी, गोविन्दपुरी, फतेहपुर, प्रयागराज, बनारस, मऊ, भटनी, देवरिया सदर

6: 01043/44 लोकमान्य तिलक टर्मिनस समस्तीपुर लोकमान्य तिलक टर्मिनस द्विसाप्ताहिक सुपरफास्ट विशेष वाया भुसावल, जबलपुर, प्रयागराज छिंवकी, दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, दानापुर, पाटलिपुत्र, हाजीपुर, मुझफ्फरपुर