Uncategorised

दुर्घटना : मध्य रेल CR के बल्हारशहा मे फुट ओवर ब्रिज FOB पैदल पुल का स्लैब गिरा

मध्य रेल के नागपुर मण्डल, बल्हारशहा मे रेलवे स्टेशन पर एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म पर यात्रिओंको जाने आने के लिए लगा, लगभग 50 वर्ष पुराना, फुट ओवर ब्रिज FOB पैदल पुल का स्लैब गिरा। कहा जा रहा है, अंदाज़न 20 यात्री स्लैब पर गढ्ढा गिरनेसे सीधे नीचे पटरी पर आ गिरे और उन्हें चोटें आईं। उन मे से 4 यात्री गम्भीर रूप से घायल है। याद रहे, कुछ दिन ही पूर्व, नागपुर मण्डल में ही बैतूल के पास पाँचवैली एक्सप्रेस के खाली रैक के 3 डिब्बे आग में झुलस गए थे। हालाँकि तब कोई यात्री के जान माल का नुकसान नही हुवा था।

टूटा हुवा FOB
(courtsey : http://www.RailPost.in)
वीडियो ANI के सहयोग से
Uncategorised

रेल लोको, उसके कोचेस, मालगाड़ी के डिब्बे उनका निर्मिती मूल्य

कई बार हमारे पढ़ने में ऐसी खबरें आती है, आन्दोलनकारीयोने गाडी फूँक दी, कोचोंको आग के हवाले कर दिया, रेलवे का करोड़ोका नुकसान हुवा। क्या आप जानते है, जिन कोचेस में आप यात्रा करते है, जो इंजिन आप की गाड़ी को खींचता है उसकी कीमत कितनी होती है? मित्रों, रेलवे कोई सर्वसाधारण यातायात व्यवस्था नही है, करोडो रूपए की सम्पत्ति पटरियोंपर यात्री सेवा में लगी पड़ी है। रेल विभाग की गिट्टी, पत्थर से लेकर उसके कोचेस तक हरेक वस्तु मूल्यवान है। आइए, आपको उसके कोचेस, मालडिब्बों और लोको की निर्मिती मूल्य से अवगत कराते है।

सारे आँकड़े लाख रुपये के मूल्य में है, केवल RWF और RWP कारखानों के सामने दिए गए मूल्य यूनिट्स में है। उपरोक्त मूल्य वर्ष 2021-22 का निर्धारण है।

CLW चित्तरंजन लोकोमोटिव वर्क्स, BLW बनारस लोकोमोटिव वर्क्स, RWF रेल व्हील फैक्टरी

ICF इंटीग्रल कोच फैक्टरी पेरंबूर चेन्नई, RWP रेल व्हील प्लान्ट बेला छपरा

RCF रेल कोच फैक्टरी कपूरथला पंजाब, MCF मॉडर्न कोच फैक्टरी रायबरेली, PLW पटियाला लोकोमोटिव वर्क्स पंजाब,

लातूर महाराष्ट्र के कोच फैक्टरी में अभी निर्माण शुरू होने को है, अतः वहाँ का निर्मिती मूल्य सूची में मौजूद नही है।

Uncategorised

मध्य रेल CR की ‘महापरिनिर्वाण दिन’ निमित्त विशेष गाड़ियाँ

दिनांक 04 एवं 05 दिसम्बर को नागपुर से मुम्बई के लिए 3 विशेष गाड़ियाँ

दिनांक 06, 07 एवं 08 को मुम्बई से सेवाग्राम, अजनी और नागपुर तक 6 विशेष गाड़ियाँ

01245 कलबुर्गी मुम्बई विशेष दिनांक 05 दिसम्बर को चलेगी वापसीमे 01246 मुम्बई कलबुर्गी विशेष दिनांक 07 दिसम्बरको निकलेगी।

01247 सोलापुर मुम्बई विशेष दिनांक 05 दिसम्बर को चलेगी वापसीमे  01248 मुम्बई सोलापुर विशेष दिनांक 07 दिसम्बरको निकलेगी।

दिनांक 07 दिसम्बर को अजनी से मुम्बई के लिए एकतरफा सुपरफास्ट विशेष 02040 चलाई जायगी।

Uncategorised

महापरिनिर्वाण दिवस को मद्देनजर रखते हुए, जलगाँव यार्ड रिमॉडलिंग के कारण रद्द की गई अमरावती मुम्बई अमरावती और विदर्भ एक्सप्रेस की बहाली की गई।

जलगांव यार्ड रिमॉडलिंग के कारण रेलवे ने जो ट्रेनें रद्द की थी, यात्रियों की सुविधा के लिए निम्नलिखित ट्रेनों को बहाल कर दिया है। विवरण इस प्रकार हैं:

रद्द की गई ट्रेनों की बहाली
12112 अमरावती-मुंबई एक्सप्रेस यात्रा शुरूआत दिनांक 5.12.2022
12111 मुंबई-अमरावती एक्सप्रेस यात्रा शुरूआत दिनांक 6.12.2022
12105 मुंबई-गोंदिया विदर्भ यात्रा शुरूआत दिनांक 4.12.2022
12106 गोंदिया-मुंबई विदर्भ एक्सप्रेस यात्रा शुरूआत दिनांक 5.12.2022

इसके अलावा एक स्पेशल ट्रेन सं. 01266 नागपुर से 5.12.2022 को 15.50 बजे प्रस्थान करेगी और 6.12.2022 को 10.55 बजे छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल मुंबई पहुंचेगी ।
( हॉल्ट्: अजनी, सेवाग्राम, वर्धा, पुलगाँव, धामनगाँव, बडनेरा, मुर्तिजापुर, अकोला, जलम्ब, मलकापुर, भुसावल, जलगाँव, चालीसगाँव, मनमाड, नासिक रोड, इगतपुरी, कसारा, कल्याण और दादर).

विशेष ट्रेन संख्या 01253 दिनांक 7.12.2022 (6/7.12.2022 की मध्यरात्रि) को दादर से 00.40 बजे प्रस्थान करेगी और उसी दिन 15.55 बजे अजनी पहुंचेगी ( हॉल्ट: कल्याण, कसारा, इगतपुरी, नासिक रोड, मनमाड, चालीसगाँव , जलगाँव, भुसावल, मलकापुर, जलम्ब, अकोला, मुर्तिजापुर, बडनेरा, धामनगाँव, पुलगाँव, वर्धा, सेवाग्राम).


Uncategorised

मध्य रेल CR की 37 जोड़ी गाड़ियोंका होगा LHB मानकीकरण!

खबर बहुत अच्छी है मगर यात्रिओंके पल्ले क्या आने वाला है यह भी समझ लीजिए! सम्पूर्ण गाड़ी की संरचना में केवल दो जी हाँ, केवल दो कोच द्वितीय श्रेणी जनरल और दो ही कोच शयनयान स्लीपर के रह जाएंगे। 21 – 22 कोच की संरचना में लगभग 15 कोच वातानुकूल थ्री टियर, टू टियर, प्रथम श्रेणी के रहेंगे।

जरा सूची पे नजर डालियेगा, आप चौक जाओगे। मुम्बई अमृतसर के बीच चलनेवाली 11057/58, कोल्हापुर गोंदिया के बीच चलनेवाली 11039/40 महाराष्ट्र एक्सप्रेस, 12139/40 मुम्बई नागपुर मुम्बई सेवाग्राम एक्सप्रेस, दादर साईं नगर शिर्डी के बीच चलनेवाली 3 जोड़ी गाड़ियाँ यह ऐसी गाड़ियाँ है जिनमे बहुतसे यात्री कम दूरी की यात्रा करनेवाले द्वितीय श्रेणी के टिकटधारी होते है। हालिया स्थिति यह है, इन गाड़ियोंमे 4 – 4 कोच द्वितीय श्रेणी के है, 6 से 10 कोच शयनयान के है जो बारों मास फुल्ल रहते है। प्रतिक्षासूची लगी रहती है और द्वितीय श्रेणी अनारक्षित में पग धरने की जगह तक नही रहती।

अब कोच मानकीकरण के चलते यात्रिओंके होने वाले नुकसान की बात और विस्तार से समझाते है। द्वितीय श्रेणी जनरल क्लास अनारक्षित वर्ग है जिसमे यात्री तुरन्त ही टिकट खिड़की से टिकट लेकर अपनी यात्रा शुरू कर सकता है। कोई अग्रिम आरक्षण कराने की जरूरत नही और किराया दर न्यूनतम। लगभग वहीं बात शयनयान स्लीपर में भी लागू होती है। हालाँकि स्लीपर में आरक्षण करना पड़ता है मगर किराया दर यात्रिओंके बजट में होता है। न्यूनतम किराये लगभग ₹100/- होते है। वहीं यात्री वातानुकूल श्रेणी में यात्रा करें तो न्यूनतम किराये लगभग दुगुने और आरक्षण मिलना दुभर होते जाता है।

पहले ही कम दूरी की सवारी गाड़ियाँ भारतीय रेल पर बेहद कम है। इन्टरसिटी गाड़ियाँ न के बराबर है। 100 से 200 किलोमीटर की यात्रा करनेवाले यात्रिओंको आज भी अपनी छोटीसी रेल यात्रा के लिए बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है। टिकट लेकर भी रेल में वह एक अपराधियों की तरह स्लीपर के किसी कोने में यात्रा करता है, क्योंकि आम यात्री अपने परिवार के साथ द्वितीय श्रेणी में तो चढ़ ही नही पाता।

ऐसी स्थितियों में रेल प्रशासन यदि दिन में चलनेवाली लोकप्रिय गाड़ियोंका मानकीकरण कर, उनका वातानुकूलिकरण कर रही है तो उन्हें चाहिए की उपरोक्त मार्गोंपर इन्टरसिटी गाड़ियाँ, कम दूरी की डेमू / मेमू गाड़ियोंका परिचालन सुनिश्चित करना चाहिए अन्यथा द्वितीय श्रेणी यात्री मजबूरन आरक्षित यानोंमें यात्रा करेंगे और उनके दुर्भाग्य से धरे भी जाएंगे।