Editorials, Magazine PDF

Rail Duniya E – Issue 1

Hello Members,

In this E Issue 1, we try to compile and present before you

Top Instagram posts from our page

Readers stories hosted on the website

Popular articles from the week

Locomotive details of any one locomotive to add up to the information base of rail enthusiast and railfans.

Hope you shall appreciate our effort, feedback and creative criticism is always welcome.

Click on Link to download : E Issue 1

Advertisements
Editorials, Uncategorised

मिलेनियम एक्सप्रेस की वह रात…

यह आर्टिकल अंग्रेजी में पढ़ने के लिए लिंक पे क्लिक करे – https://railduniya.in/2019/04/12/the-dark-night-on-millennium-express/

भारतीय लोगोंके जीवन मे रेलवे का एक अटूट सम्बन्ध रहा है। हमारे सुख दुख की साथी है यह रेलवे। लाखों लोग अपने रोजगार की जगह पर जाने के लिए रेलवे का ही उपयोग करते है। कुल मिलाकर भारत मे घूमने, फिरने और रोज की यातायात के लिए रेलवे को कोई भी अन्य और यथायोग्य पर्याय आज तो नही है।

आज अचानक ही पुराने रिकार्ड में ग्वालियर के फार्मसी कॉलेज के अध्यापक महोदय का एक प्रशंसा पर पत्र हाथ लग गया। पत्र पढ़ते ही उस रात की याद ताज़ा हो गई। यह किस्सा है तो काफी पुराना लेकिन है बड़ा ही रोमांचक।

उन दिनों रेलवे के ट्वीटर और फेसबुक अकाउंट नही थे और नाही आप रेलवे के अधिकारियों से सीधे संपर्क कर पाते थे, तो एक रात करीबन दो बजे का वक्त रहा होगा, रेलदुनिया का लैंडलाइन फोन घनघना उठा। सामने से एक बड़ी डरी सहमी सी आवाज़ में एक व्यक्ति बोल रहा था, ” साहब, आधी रात को तकलीफ़ देने के लिए माफी चाहता हूँ, लेकिन प्लीज हमारी मदद कीजिए”

कहानी इस प्रकार थी, वह व्यक्ति जो फोन कर रहे थे, वह ग्वालियर इलाके के फार्मेसी कॉलेज के अध्यापक थे। वे लोग अपने विद्यार्थिनीयोंके साथ, शैक्षणिक यात्रा से ऊटी से ग्वालियर की ओर लौट रहे थे। उनके शयनयान डिब्बे में करीबन 25 आरक्षण थे, डिब्बा इंजिन से दूसरा था और बगल वाला डिब्बा अनारक्षित याने सेकंड जनरल था। सबरीमाला के यात्रियों की बड़ी भीड़ गाड़ी में एकाएक चढ़ी और इन लोगोंके डिब्बे में कुछ असामाजिक तत्व उधम मचाने लगे। रात का वक्त, साथ मे लड़कियाँ, भाषा के कारण संभाषण की दिक्कतें , डिब्बे में कोई रेलवे का न तो RPF और न ही TTE, खतरे की जंजीर खिंचे तो काम नही कर रही थी।

अध्यापक महोदय ने हर सम्भव प्रयास कर लिया था। उन लोगोंसे बातचीत की, उनसे प्रार्थना की, की वे उन्हें अपने आरक्षित जगहों पर से ना उठाए चाहे तो आधी जगह में वो लोग ले ले और बची जगह में लड़कियों को एडजस्ट होने दे। लेकिन वे लोग से अब छेड़छाड़ होने की आशंका भी अध्यापक और उनके विद्यार्थिनीयोंको सताने लगी थी।

गाड़ी थी मिलेनियम एक्सप्रेस और हमारे टूरिस्ट चढ़े थे कोयम्बटूर से। उनकी सारी आरक्षित जगहे पहलेसे ही, एर्नाकुलम से लबालब भर भर के आयीं थी। डिब्बे में तो यह लोग चढ़ गए लेकिन हाल जो हो रहे थे उसका नजारा हमने आपको बताया।

रात मे ईन लोगोने गाड़ी में से लोकल पुलिस को भी फोन लगाने की कोशिशें की, लेकिन मदत नहीं पा सके। उन्होंने एक SOS तरीके की कोशिश करने की सोची और उनके पास रेलदुनिया की किताब में से उसका ऑफिस का नम्बर डायल किया।

अब आगे क्या हुवा, बताते है। रात दो, ढाई बजे जब रेलदुनिया के दफ्तर में कॉल आयी तो यहाँसे तुरन्त उन्हें दक्षिण मध्य रेलवे झोन के RPF के झोनल कमिश्नर का मोबाइल नम्बर दिया गया चूँकि ट्रेन अब तक दक्षिण रेलवे पर कर दक्षिण मध्य रेल पर आ गई थी और खुद रेलदुनिया द्वारा भी कमिश्नर को प्राप्त परिस्थितियों से अवगत कराया गया। उन्होंने फौरन ट्रेन की पोजिशन ली और मार्ग के RPF कार्यलय को सावधान कर दिया। उन्हें कहा गया की पूरे बन्दोबस्त से जाए और यात्रिओंको सुरक्षा प्रदान करे, साथ ही मुख्यालय से ताजा जानकारी साझा करते रहे।

फिर रेल सुरक्षा बल ने जो काम किया है, आप अचंभित हो जाओगे। काटपाड़ी स्टेशन पर गाड़ी रुकते ही RPF दल ने पूरे डिब्बे को घेरा और बल का इस्तेमाल करते हुए डिब्बे के दरवाजे खुलवाए, अंदर प्रवेश कर उन गुंडों को अपने कब्जे में लिया और हमारे यात्रिओंको सुरक्षित किया, उन्हें अपनी जगहों पर बिठवाए। और इतनाही नहीं चार RPF का एक दल हमारे यात्रिओंके साथ, उस डिब्बे में ऑन ड्यूटी तैनात किया जो की ग्वालियर तक उनके साथ चला।

पता नही, लेकिन सफर में किसे किस तरह के अनुभवों से गुजरना पड़ सकता है। खैर, यह तो उन दिनोंकी बात है, आज कल तो रेल विभाग सुरक्षा के प्रति बहोत चाक चौबंद हो गया है। स्टेशनोंपर, गाड़ियोंमें हथियारबन्द पुलिस मौजूद रहते है।

रेलवे पुलिस हेल्पलाइन नंबर १८२.

ऊपर लिखी कथा एक सत्य घटना है। रेल दुनिया सदैव आपकी सेवा में।

Editorials, Uncategorised

The Dark Night on Millennium Express

Read this article in Hindi : https://wp.me/pajx4R-7h

Railways has an unbreakable relationship in the lives of the Indian people, as a companion of our joys and sorrows . Millions of people use the railway to go to their destination. Overall, there is no other appropriate alternative to the railway for daily short distance commuters in India.

Today, out of blue, a letter from the teacher of the Pharmacy College, Gwalior was found in old records, an appreciation letter. The letter reminisced many old memories. It is an old yet thrilling story.

In those days there was neither twitter nor Facebook account of the railway and you couldn’t contact with railway officials directly. It would have been around two o’clock in the morning, the landline phone of Rail Duniya rang. The person on the other end was speaking in hushed voice, “Sir, I apologize for troubling you at midnight, but please help us”

The story follows, the person who called up, was a teacher of Pharmacy College of Gwalior . They were returning from Ooty to Gwalior with their students, from the educational tour. There were about 25 reservations in the sleeping compartment, second coach from the engine and the adjacent boggie was unreserved general. A large crowd of passengers traveling towards Sabarimala climbed in the coach and some goons started frightening the people in the compartment. It was the night time, the group was facing problem due to language barrier, and there were no railway officials neither the RPF nor the TTE in the couches. The chains for emergency stopping the train were not working.

The teacher had made every possible effort. He talked to them, prayed to them and even offered to share half of their seats and let the girls adjust in the remaining place. But the people were now harassing the teacher and the students.

The train was Millennium Express and our passengers were from Coimbatore. All of his reserved places had already filled up from Ernakulam. These people boarded the train but we already told you the scene of what was happening.

In the night, the people tried to call the local police,  but got no help. Then desparate and distressed, they got the telephone number of our office from our magazine Rail Duniya.

It was the time of action for Railduniya. At 2.30 am, when the call came, we immediately gave the mobile number of the zonal commissioner of the RPF of the South Central Railway Zone. The train had already entered South Central Railway from Southern Railway Zone.

We informed the Commissioner was about the circumstances. He took the position of train immediately and alerted the RPF office on the route. They were asked to go with full preparation and provide security to the passengers, as well as to give all updates to the headquarters.

Then you will be amazed at what the railway security force did. After the train stopped at Katpadi station, the RPF team surrounded the whole compartment and forcefully opened the doors, entered inside and took those goons and secured our passengers, put them in their places. And not so much, a team of four RPF was also deployed on Duty with our passengers in the coach with them till Gwalior.

It is unusual, sometimes, experiences one might have to go through in the journey are  not very good. Well, it is story of old days, today the railway department has become very responsive and alert towards security. Armed police are also present in the trains and at stations.

The above story is a true phenomenon. Rail Duniya is always in your service.

Railways helpline number is 182.

Do share your thoughts and this article with the ones who you think will find it worth reading.

Regards

Rail Duniya

 

Editorials

Edition 143 – Jan’ 18 editorial

रेल दुनिया जनवरी अंक में आपका स्वागत है.

इस बार रेलवे की और से समय सारिणी में व्यापक परिवर्तन किये गए है. नयी गाड़ियां, नया नजरिया, यात्रा के समय में कटौती और उपयक्त जवाबदेही . प्लेटफार्म पर यात्रीयो के जाने के लिए रैंप, लिफ्ट और एस्कलेटर. प्लेटफार्म पर R O का शुद्ध जल एवं वाटर वेंडिंग मशीन, हर सुविधा सही तरीके से पोहचे इसकी कामयाब कोशिश की गयी है.

अब बात करते है रिजर्वेशन की. रिजर्वेशन कन्फर्म, RAC या वेटिंग लिस्ट इस प्रकार के होते है. कन्फर्म मतलब आप को बर्थ नंबर मिल गया है. RAC याने सीट पक्की है, आरक्षित डिब्बे में यात्रा की जा सकती है और बर्थ जब भी खाली होगी आप उसके पहले हक़दार होंगे.वेटिंग लिस्ट यात्री चार्ट बनने के बाद भी वेटिंग लिस्ट में ही रह जाते हैं. वह आरक्षित डिब्बे में यात्रा नहीं कर सकते हैं. उन्हें या तो टिकट रद्द कराना हैं या फिर द्विवतीय श्रेणी में यात्रा करनी होगी.

आरक्षण करते वक्त आपने देखा होगा GNWL, RLWL , PQWL और TQWL ऐसे वेटिंग लिस्ट के प्रकार होते हैं. जिसमे GNWL वाला टिकट कन्फर्म होने के चान्सेस सर्वाधिक होते हैं. GNWL वाला टिकट अक्सर गाडी जहाँ से शुरू होती है वही से दिया जाता है। आजकल कम्प्यूटर से यात्री घर पर ही टिकट बना सकता है तो अब जब वेटिंग लिस्ट टिकट लेने की नौबत ऑ पडे तो हो सके जब तक GNWL वाला टिकट ही सर्च करें ।